आखिर क्यों ना हो पलायन?

आखिर क्यों ना हो पलायन? मेरा सवाल है शासन प्रशासन से क्या अपने गावो को डूबता देखने के लिए हम इन पहाड़ो मै रहे। क्यों इन सीधे साधे लोगो के साथ मजाक हो रहा है?

Lohari Village


कुछ समय से सोशल मीडिया में लोहारी गांव की तस्वीरें देख रा हूँ। अपने भाइयो की ये हालत देख कर रोना आता है क्यों कोई इनको देखने वाला नहीं है। कुछ वीडियोस देखी माताओ को रोते देख आँशु रुके नहीं।
बात सिर्फ लोहारी गांव की नहीं है ना जाने कल किस के साथ क्या होगा आप सभी लोग भी तैयार रहे अपने घरो से तख्ते, बल्लिया , पत्थर, दरवाजे निकालने के लिए।


क्या इन शहरो को रोशन करने के लिए हमारा बेघर होना जरुरी है। और ये पहाड़ के सीधे लोग कुछ कहते नहीं तो सरकार, प्रशासन भी मजे ले रहा है। यही बात अगर दिल्ली नॉएडा की होती तो कुछ फ़ीट जमीन काटने पे करोड़ो रुपये मुआवजा देना पड़ता पर अभी तो बात सीधे साधे पहाड़ी की हो रही है ना।
अभी भी समय है लोहारी वालो को उनका हक़ दिलाने के लिए एक हो जाओ नहीं तो ना जाने कितने गांव और बली चडंगे अंदाजा नहीं लगा सकते।

 6,430 total views,  6 views today

admin

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Republic Day 2023 Hills Under a Blanket of Snow: A Winter’s Dream Making dreams a reality, one trip at a time – GramPrahari.com Travel With Gram Prahari The Great Outdoors: Exploring the Beauty of Nature – GramPrahari.com